कोलेस्ट्रोल और मोटापा को संतुलित कैसे रखें

डॉ. व्ही.बी.खरे

(बी.एस.सी. ,बी.एच.एम.एस. ,पी.जी.पी.डी.सी. ,डी.एन.वाय.एस.,सी.सी.एच.)

होम्योपैथ ,नैचुरोपैथ,एवम मनोवैज्ञानिक सलाहकार

कोलेस्ट्रॉल एक गाढ़ातैलीय पदार्थ की तरह होता है जो हमारे शरीर में रहता है। यह कोशिकाओं के निर्माण करने के लिए आवश्यक होता है। इसके अलावा कोलेस्ट्रॉल सूर्य की ऊर्जा को विटामिन डी में परिवर्तित करता है। कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहने से शरीर में किसी तरह की समस्या नहीं होती है। हालांकि शरीर में दो तरह के कोलेस्ट्रॉल मौजूद होता है जिसे अच्छा और बुरा कोलेस्ट्रॉल शामिल होता है। अच्छा कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर शरीर स्वस्थ रहता है और बुरा कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर हृदय रोग का जोखिम पैदा करता है। शरीर में हाई कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का कारण गलत खान -पान होता है। आजकल लोग संतुलित आहार खाने की जगह बाहर के जंक फ़ूड, प्रोटेस्ट फ़ूड का अधिक सेवन करते है, जिसके वजह से शरीर में वसा की मात्रा में बढ़ जाती है और कोलेस्ट्रॉल हाई हो जाता है। कोलेस्ट्रॉल हाई होने पर व्यक्ति के शरीर में कुछ लक्षण मोटापा, बीपी, किडनी रोग, शुगर आदि की समस्या और बढ़ जाती है। अधिक धूम्रपान व शराब पीने से खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है। कोलेस्ट्रॉल धमनी की दीवारों के साथ जमा हो जाती है और इस वजह से हृदय रोग बढ़ता है। व्यक्ति में सामन्य तौर पर रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर 2oo मिली ग्राम से कम होना चाहिए। इसके अलावा 240 उच्च कोलेस्ट्रॉल माना जाता है।

कोलेस्ट्रॉल कम करने के घरेलु उपचार :-

आंवला का उपयोग – आँवला में प्राकृतिक रूप से बहुत से यौगिक होते है जो सीरम की सांद्रता को कम करने में मदद करता है। कुछ अध्ययन के अनुसार आंवला का सेवन करने से बुरा कोलेस्ट्रॉल कम होता है क्योंकि इसमें एंटीहाईपरलिपिडेमिक व हाइपोलिपिडेमिक का प्रभाव होता है। आंवला का उपयोग करने के लिए पानी में उबालकर पानी को सुबह खाली पेट पीये। इस प्रक्रिया को रोजाना अपनाये।


नट्स का उपयोग – हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए सूखे मेवे बहुत फायदेमंद होते है। इसके गुण हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करते है और हृदय को जोखिम को बचाव करते है। नट्स में आपको बादाम, अखरोट, मूंगफली, पिस्ता आदि के सूखे मेवे का सेवन करना चाहिए। इन सूखे मेवे में फाइबर की अच्छी मात्रा में होती है। इसके अलावा विटामिन सी से समृद्ध युक्त भोजन का सेवन करे। इससे आपका कोलेस्ट्रॉल का स्तर सामान्य रहता है।


नारियल का तेल – नारियल के तेल में लौरिक एसिड होता है। यह शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाकर बुरे कोलेस्ट्रॉल की संख्या को कम करते है। इसके लिए आपको एक चम्मच कार्बनिक नारियल तेल को भोजन में उपयोग करे। क्योंकि नारियल तेल को कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अच्छा घरेलु उपचार माना जाता है। इस बात का ध्यान रखे संसाधित नारियल तेल का उपयोग न करे। इसके नारियल तेल त्वचा के संक्रमण दूर करने में मदद करता है।


सेब का सिरका सेब का सिरका बहुत सी बीमारियों के जोखिम करने में मदद करता है। इसके अलावा सेब का सिरका कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट व प्रभावशाली गुण मौजूद होता है। सेब का सिरका को एक चम्मच ले और पानी में मिलाकर सेवन करे। इस प्रक्रिया को कम से कम एक महीने तक दोहराये। अगर सेब का सिरका का स्वाद आपको पसंद नहीं आ रहा है तो किसी फल के रस का उपयोग कर सकते है।


धनिया का बीज धनिया का उपयोग शुगर को कम करने के लिए किया जाता है। इसी प्रकार धनिया के बीज कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए फायदेमंद होता है। धनिया के बीज का उपयोग करने के लिए एक कप पानी में दो चम्मच धनिया बीज के पाउडर को मिलाये। इस मिश्रण को पानी में उबाले और छान ले और इसे दिन में दो बार पीये। अगर आप स्वाद में बदलाव करना चाहते है तो इसमें दूध, चीनी, इलायची को जोड़ सकते है।


प्याज का उपयोग प्याज में बहुत से औषधीय गुण उपस्थित होता है जो हाई कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद करता है। कुछ वैज्ञानिको ने अपने शोद में लाल प्याज को कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने का अच्छा घरेलु उपचार माना जाता है। यह हृदय रोग के जोखिम को कम करता है। प्याज का उपयोग करने के लिए शहद को मिलाये इस मिश्रण को पिए। प्याज और शहद के मिश्रण को रोजाना पिये। इसके अलावा प्याज को काली मिर्च डालकर सुप बनाकर पी सकते है। छाछ के साथ मिलाकर सेवन कर सकते है। प्याज के स्वाद को और बढ़ाने के लिए अदरक, लहसुन को शामिल करे।

मोटापा क्या है ?

यदि व्यक्ति के शरीर में कैलोरी कम नहीं होती है, तो मोटापा अपने आप बढ़ने लगता है। शरीर में सही तरीके से न्यूट्रेन नहीं मिलता तो भी मोटापा होने लगता है। अधिक मोटापे होने पर व्यक्ति की कार्य छमता धीमी हो जाती है। व्यक्ति के अधिक तनाव में होने से भी मोटापा होने लगता है। शरीर के लिए अधिक मोटापा अच्छा नहीं होता है।

मोटापे के कारण क्या है ?

मोटापा का कारण कुछ लोगो में जेनेटिक अनुवांशिक होता है।
उदाहरण – अगर माता-पिता मोटे है तो उनका बच्चा भी मोटा रहता है।
महिलाओं के गर्भावस्था समय में बहुत हार्मोन्स का बदलाव होता है जिसके कारण मोटापा बढ़ता है।
महिलाओं में मासिक-धर्म बंद हमेशा के लिए बंद हो जाते है तो इसके कारण मोटापा बढ़ने लगता है।
सही पोषक आहार ना लेने के कारण भी मोटापा होने लगता है।
अधिक तैलीय पदार्थ व फास्टफूड खाने के कारण मोटापा होने लगता है।
अधिक धूम्रपान करने के कारण मोटापा शुरू हो जाता है।


मोटापे के लक्षण क्या है ?


जोड़ो में दर्द होना।
ठीक से नींद पूरी नहीं होना।
हाई ब्लड प्रेशर होना।
मधुमेह विकार होना।
दिनचर्या के कार्यो में समस्या आना।
गठिया की समस्या होना।
थकावट होना।
थायराइड की समस्या होना।

मोटापा का इलाज क्या है ?

मोटापे के इलाज के लिए डॉक्टर पहले खाने के रुटीन को बदलने के लिए सुझाव देते है जिससे शरीर का संतुलन बना रहे। डॉक्टर दूसरा सुझाव नियमित रूप से व्यायाम ,योगा करने को बोलते है।


मोटापे से बचाव कैसे करे ?


मोटापे से बचने के लिए अधिक मीठी और ठंडी चीजों का सेवन ना करे। जैसे आइसक्रीम, कोल्डड्रिक, चीनी से बनी हुई चीजों को ना खाये, चीनी के जगह पर शहद का इस्तेमाल करे और फ़ास्ट-फ़ूड खाने से बचे जिससे मोटापा नहीं बढ़ेगा।
शरीर के संतुलन को बनाये रखने के लिए भोजन कम खाये अर्थ पौष्टिक आहार ले जिससे शरीर में प्रोटीन मिलेगा व वसा नहीं बढ़ेगा और मोटापा की समस्या नहीं होगी।
रोज सुबह शाम व्यायाम योगा करे जिससे मोटापा नहीं बढ़ेगा।
रोज आठ से सात घंटा नींद लेना चाहिए क्योकि उचित नींद लेने से शरीर की चर्बी कम होती है। मोटापा नहीं होता है|


मोटापा घटाने के लिए घरेलु उपचार क्या है ?


मोटापा घटाने के लिए सबसे अधिक उपयोगी ग्रीन टी होता है। ग्रीन टी पीने से मोटापा कम होता है।
नींबू के रस में शहद को डालकर मिलाये व मिलाने के बाद गर्म कर ले और फिर इसका सेवन करे।
सेब का सिरका में शहद मिलाकर पीये जिससे शरीर की चर्बी कम होती है।
काली मरीच का उपयोग चाय और सलाद में करे। काली मरीच का सेवन मोटापे को कम करने लिए बहुत फायदेमंद होता है।
दालचीनी पाउडर को आधा चम्मच ले और उसमे आधे नींबू का रस डालकर गर्म करले फिर इसका सेवन करे।

योगासन और मुद्रा

ताड़ासन,वज्रासन ,पादहस्तासन,भुजंगासन,सूर्य मुद्रा ,लिंग मुद्रा का नियमत प्रयोग करने से मोटापा से काफी हद तक निजात मिल सकती है

और अधिक जानकारी के लिए हमारा एप्प YOGAMONK को डाउनलोड कर उपयोग करें

स्वस्थ से सम्बंधित जानकारी और क्लिनिक के अपॉइंटमेंट के लिए हमारा ऑफिसियल एप्प CUREZONE को डाउनलोड करे और लाभ उठाये

Call Now Button